रविवार, 11 मार्च 2012

"r u there "?......

मेरे inbox  में पड़ा तुम्हारा सन्देश.......
'क्या हुआ
r  u there "?.....
"where r u ????????"
आज मुझे चिढ़ा रहा है,
खूब रुला रहा है,
जितनी पीड़ा ताउम्र  नहीं मिली,
उससे ज्यादा आज तड़प
एक पल में पा ली....
जीवन भर न मिट पानेवाली
ग्लानि पा ली.....


मैं रुक न सकी दो पल,
और तुम इतनी आगे निकल गए...
मेरे उत्तर की प्रतीक्षा भी न कर सके?
मेरा जवाब तो सुन लेते,
जाते-जाते कुछ तो कह जाते .
आज बार-बार मैं msg कर रही हूँ..
'क्या हुआ, r u there ?'
कोई जवाब नहीं...
अब; कभी कोई जवाब नहीं...
जीवन भर पूछती ही रह जाऊँगी
पर अब कभी कोई जवाब न पाऊँगी 
क्यों न इंतज़ार कर सकी उस पल
और अब इंतज़ार हर पल
अविराम........



10 टिप्‍पणियां:

  1. itni marmik prastuti.......aankho me samunder sa umad aaya hai..........

    उत्तर देंहटाएं
  2. बेहद हृदयस्पर्शी प्रस्तुति रागिनी जी

    उत्तर देंहटाएं
  3. कभी कभी बीता वक़्त लौट के नहीं आता ...
    खूबसूरत अलफ़ाज़ हैं ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. लिखा तो बहुत अच्छा है ....पर ऐसा क्यों ???

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत मर्मस्पर्शी अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुन्दर....
    कभी कभी मन भावावेश में गलत फैसले ले लेता है....

    उत्तर देंहटाएं